{ Page-Title / Story-Title }

News

हर बार अपना पक्ष रखने की आवश्यकता नहीं होती, कर चोरी के आरोप पर सोनू सूद ने कहा


पिछले सप्ताह अभिनेता के व्यक्तिगत और उनसे जुडी जगहों पर छापे डालने के बाद आयकर विभाग ने सूद पर रु२० करोड़ के कर चोरी का आरोप किया है।

Our Correspondent

केंद्रीय अर्थ मंत्रालय के आयकर विभाग ने अभिनेता सोनू सूद पर टैक्स चोरी का आरोप लगाया है। अब सूद ने भी इसका जवाब दिया है।

सोशल मिडिया पर दिए अपने निवेदन में सूद ने लिखा, "आपको हर बार अपना पक्ष रखने की आवश्यकता नहीं होती। समय बता देता है।"

ये निवेदन अर्थ मंत्रालय के आयकर विभाग द्वारा सूद पर रु२० करोड़ की टैक्स चोरी के आरोप लगाने के एक दिन बाद आया है।

सूद के घर और व्यावसायिक जगहों तथा उनसे जुडी जगहों पर चार दिन छापे डालने के बाद आयकर विभाग द्वारा उनका निवेदन दिया गया।

अपने निवेदन में सूद ने आगे कहा, "मैंने खुद को अपनी पूरी क्षमता और दिल के साथ भारत के लोगों की सेवा करने का वचन दिया है। मेरी फाउंडेशन का हर एक रुपया लोगों की कीमती जाने बचाने और जरूरतमंदों तक पहुंचने के लिए राह देख रहा है। साथ ही मैंने कई बार ब्रैंड्स को मेरी फीज़ मानवता के काम के लिए दान करने के लिए प्रोत्साहित किया है, जो हमारे काम को आगे बढ़ाने में मददगार साबित होता है।"

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

A post shared by Sonu Sood (@sonu_sood)

छापों के बारे में कटाक्ष करते 'कुछ मेहमानों की खातिरदारी में व्यस्त था' ऐसा कहते हुए उन्होंने आगे लिखा, "मैं फिर से आपकी सेवा में हाज़िर हूँ।"

सूद को हाल ही में दिल्ली सरकार के शिक्षा प्रोग्राम देश के मेंटर्स का ब्रैंड एम्बेसेडर बनाया गया। साथ ही वे कोविड-१९ के दौरान स्थापित उनकी सेवाभावी संस्था के लिए काम कर रहे हैं, जो जरूरतमंदों को मदद करती है।

सेन्ट्रल बोर्ड ऑफ़ डायरेक्ट टैक्सस ने पिछले सप्ताह ये छापे मारे थे, जिसमे अभिनेता और उनसे संबंधित मुम्बई, दिल्ली, जयपुर, लखनऊ और गुरग्राम की जगहें शामिल हैं। एशियन न्यूज़ इंटरनैशनल एजेंसी ने टीम के हवाले से बताया, "अभिनेता और उनसे संबंधित जगहों पर खोज करते हुए टैक्स चोरी का आरोप करने योग्य सबूत मिले हैं। इसमें जो काम करने की प्रक्रिया इस्तेमाल की गयी वो ये थी के अभिनेता की बेहिसाबी कमाई को कई बनावटी स्रोत से लिया गया बनावटी अनसेक्यूर्ड लोन बताया गया है।"

फायनेंशियल एक्सप्रेस अख़बार में छपे ख़बर के दावे के अनुसार विभाग ने रु१.८ करोड़ कैश ज़प्त की है और सूद के ११ लॉकर्स पर भी प्रतिबंधात्मक आदेश दिए हैं।

Related topics