{ Page-Title / Story-Title }

News Hindi

रणबीर, रिधिमा ने सारी ज़िम्मेदारी उठायी थी, कहा कैंसर-फ्री ऋषि कपूर ने


अभिनेता ऋषि कपूर ने कहा के वे अब पहले से काफ़ी बेहतर हैं और बोन मैरो ट्रांसप्लांट की राह देख रहे हैं जिससे वे इस बीमारी से पूरी तरह से मुक्त हो जाएंगे।

फोटो - शटरबग्ज़ इमेजेस

Our Correspondent

कैंसर-फ्री घोषित होने के बाद अभिनेता ऋषि कपूर ने अपनी पत्नी नीतू सिंह, बेटे रणबीर कपूर और बेटी रिधिमा कपूर साहनी को उनके साथ रहने के लिए पूरा श्रेय दिया। पिछले वर्ष सितंबर में ऋषि अमरीका गए थे। पर कुछ महीनों बाद ही उनके कैंसर की अफ़वाएं घूमने लगी थीं।

इस सप्ताह के शुरुवात में कपूर परिवार के खास दोस्त निर्देशक राहुल रवैल ने ऋषि कपूर के कैंसर-फ्री होने की खबर को साँझा किया था। उसके बाद ऋषि कपूर ने डेक्कन क्रोनिकल अखबार से बात कर अपनी तबियत के बारे में जानकारी दी।

"मेरे आठ महीने की ट्रीटमेंट १ मई से अमरीका में शुरू हुई। ईश्वर की कृपा से अब मेरी तबियत में काफ़ी सुधार है, जिसका मतलब है के मैं अब कैंसर-फ्री हूँ," ऋषि कपूर ने कहा।

अपने फैन्स को धन्यवाद देते हुए ऋषि ने कहा, "सेहत में सुधार होना बड़ी बात है और ये सब मेरे परिवार और फैन्स की दुवाओं की वजह से संभव हो पाया है। मैं सभी को धन्यवाद देता हूँ।"

ऋषि कपूर ने ये भी बताया के उनकी पत्नी नीतू सिंह उनके साथ एक आधार के रूप में खड़ी थीं। "नीतू मेरा आधारस्तंभ थी। नहीं तो मैं खाने और ड्रिंक को लेकर काफ़ी मुश्किल इंसान हूँ," उन्होंने कहा।

इस बीमारी की वजह से वे अपने बच्चे रणबीर और रिधिमा के और करीब आ गए। खबर में ये भी कहा गया है के ऋषि कपूर ने अपने बच्चों को ज़िम्मेदारी उठाने पर धन्यवाद कहा है। उन्होंने कहा, "मेरे बच्चे रणबीर और रिधिमा ने मेरी कठिनाइयों को संभाला है।"

कैंसर से झुझते हुए विजयी होकर लौटनेवाले अभिनेताओं की लिस्ट में ऋषि कपूर का नाम भी जुड़ गया है। सोनाली बेंद्रे, जो खुद इस बीमारी से लड़ कर उभरी हैं, ऋषि कपूर से अमरीका में मिलती थीं। सोनाली खुद वहाँ ट्रीटमेंट ले रही थीं और कुछ ही महीनों पहले उनके स्वास्थ में सुधार की खबर आई थी।

ऋषि कपूर ने ये भी कहा के सेहत में सुधार की इस धीमी प्रक्रिया ने उनके संयम को भी बढ़ाया है। उन्होंने कहा, "मेरे जैसे इंसान के पास पहले ज़रा भी संयम नहीं था। मुझे संयम सिखाने का ये ईश्वर का तरीका है। ठीक होना ये धीमी प्रक्रिया है। पर जीवन की ये भेंट आपको कृतज्ञ बना देता है।"

Related topics