{ Page-Title / Story-Title }

News Hindi

जॉर्ज क्लूनी ब्रैड पिट के स्क्रीन टाइम के बारे में सोचते तो हमें ओशनस इलेवन देखने ही नहीं मिलती – सोनाक्षी सिन्हा


कलंक जैसी मल्टी-स्टारर फ़िल्म में अभिनेताओं के स्क्रीन टाइम पर पूछे सवाल के जवाब में अभिनेत्री सोनाक्षी सिन्हा ने मत प्रकट किया।

फोटो - शटरबग्ज़ इमेजेस

Keyur Seta

निर्देशक अभिषेक वर्मन की फ़िल्म कलंक में वरुण धवन, आलिया भट्ट, आदित्य रॉय कपूर, कुणाल केमू, माधुरी दीक्षित और संजय दत्त जैसी बड़ी स्टार कास्ट है। साथ ही इस फ़िल्म के लिए निर्माताओं ने अलग से एक छोटासा गाँव का सेट भी बसाया था। यही वजह थी के उन्होंने इस फ़िल्म को साइन किया, अभिनेत्री सोनाक्षी सिन्हा ने एक सवाल के जवाब में बताया।

"एक खूबसूरत और महत्वपूर्ण किरदार काफ़ी लंबे अंतराल के बाद मुझे मिला। शायद लुटेरा (२०१३) के बाद। मैं इस फ़िल्म का हिस्सा बन पाई इस बात की मुझे ख़ुशी है क्यूंकि अभिषेक ने इतनी खूबसूरत दुनिया बसाई थी और साथ ही इतने अच्छे कलाकार इस फ़िल्म में एक साथ काम कर रहे थे। हर किरदार कहानी को आगे लेकर जाता है। मुझे लगता है ये काफ़ी महत्वपूर्ण है। ये पूरा अनुभव काफ़ी अवास्तविक था," उन्होंने कहा।

पर इतने सारे कलाकार महत्वपूर्ण भूमिकाओं में होने से क्या उन्हें अपने स्क्रीन टाइम को लेकर चिंता थी, ये पूछने पर उन्होंने जवाब दिया के अगर किरदारों को सही ढंग से रचा जाए और वो कहानी में महत्वपूर्ण योगदान दें, तो आखिरकार वही बातें मायने रखती हैं।

"अगर हर कोई स्क्रीन टाइम को लेकर चिंतित रहता, तो मल्टी-स्टारर फ़िल्में बनती ही नहीं। अगर जॉर्ज क्लूनी ब्रैड पिट के स्क्रीन टाइम के बारे में इतना सोचते तो शायद हमें ओशनस इलेवन देखने ही न मिलती," सोनाक्षी ने कहा।

सोनाक्षी पहली बार निर्देशन कर रहे अभिषेक दुधैया की फ़िल्म भुज – द प्राइड ऑफ़ इंडिया (२०२०) में भी काम कर रही हैं, जो की उनकी एक और मल्टी-स्टारर फ़िल्म होगी। उनके साथ अजय देवगन, राणा दग्गुबटी, परिणीति चोपड़ा और एमी विर्क भी इस फ़िल्म में काम कर रहे हैं।

इस फ़िल्म की कहानी उन ३०० महिलाओं पर आधारित है जिन्होंने १९७१ में पाकिस्तान के साथ हुई जंग में एक रात में भारतीय हवाईदल के क्षतिग्रस्त रनवे को फिरसे बनाया था। सोनाक्षी सिन्हा उन महिलाओं की प्रमुख बनी हैं।

"मुझे लगता है ये किरदार अपने आप में बहुत दमदार है," अपने किरदार के बारे में बताते हुए उन्होंने कहा। "उन्होंने हवाई जहाज के रनवे को एक रात में बनाया था। ये एक ऐसी महिला का किरदार है जिसने ३०० महिलाओं को इस काम के लिए तैयार किया, जब की उस वक़्त हर तरफ बम फेंके जा रहे थे।"

गौरतलब है के इसी किरदार के लिए उन्हें दो बार अलग अलग फ़िल्मों में पूछा गया था। "पर बाकि कामों की वजह से मैं ये दोनों फ़िल्में नहीं कर पाई। पर आखिरकार मुझे भुज मिल ही गई। जैसा की कहा जाता है, कुछ किरदार आप ही के लिए होते है," उन्होंने कहा।

कलंक १७ अप्रैल को प्रदर्शित हो चुकी है।

Related topics