{ Page-Title / Story-Title }

News Hindi

कलंक का 'फर्स्ट क्लास' गाना – वरुण धवन कियारा अडवाणी के साथ खूब झूम रहे हैं


प्रीतम के संगीत और अरिजीत सिंह की आवाज़ में वरुण धवन का ये स्टाइलाइज़्ड गाना उनका एंट्री सॉंग है।

Shriram Iyengar

अभिषेक वर्मन द्वारा निर्देशित कलंक के निर्माताओं ने 'घर मोरे परदेसिया' गाने के साथ फ़िल्म के गानों को जारी करना शुरू किया। 'घर मोरे परदेसिया' शास्त्रीय संगीत पर आधारित गाना है। अब इस अल्बम का दूसरा गाना भी दर्शकों के सामने लाया गया है। 'फर्स्ट क्लास' गाने के ज़रिये क़व्वाली के आधुनिक वर्जन को इस गाने में देखा जा सकता है।

वरुण धवन और कियारा अडवाणी इस उत्सवी गाने में झूमते नज़र आ रहे हैं, साथ ही वरुण धवन के किरदार ज़फर का ये एंट्री सॉंग है।

यह गाना ईद के त्यौहार का जश्न लग रहा है। इससे पूर्व आये 'घर मोरे परदेसिया' गाने में आलिया भट्ट के किरदार रूप को दर्शाया गया था, जो की दशहरा के त्यौहार का गाना था।

यूँ लगता है के गानों को इसी थीम के अंदाज़ से पेश किया जा रहा है, जिससे उस वक़्त का पता चल सके। आलिया भट्ट की रूप तथा आदित्य रॉय कपूर के देव शादी की रस्म निभाते दिखते हैं, जो की दर्शकों की उत्सुकता को बढ़ाता है।

गाने की शुरुवात ज़फर के साथ होती है जब वो नमाज़ पढ़ कर गाने में शरीक होता है। कियारा अडवाणी इस गाने में ज़फर का साथ दे रही रही हैं। पर दोनों की जोड़ी में कमाल नज़र नहीं आता।

इस गाने को बड़े पैमाने पर शूट किया गया है। सेट डिज़ाइन और दृश्यांकन से साफ़ झलकता है के ये बड़ी लागत से बनी फ़िल्म का गाना है और इसके दृश्य मन को मोह लेते हैं।

अरिजीत सिंह और नीति मोहन ने इस गाने को गाया है। गाने की लय और ताल में गतिशीलता है। अमिताभ भट्टाचार्य के बोल में हिन्दू मुस्लिम के सौहार्द की उपमाएं झलकती हैं। अरिजीत सिंह की आवाज़ में जोश और ऊर्जा भरी हुई है और वरुण धवन के रिदम से भी वो आसानी से जुड़ती है। ढोल के इस्तेमाल से बीट्स का भरपूर उपयोग तो है, पर फिर भी परिचित शैली की वजह से वो उतना प्रभावी नहीं लगता। 'घर मोरे परदेसिया' के शास्त्रीय आधार के गीत से बिलकुल अलग ये गाना पहले गाने के जैसी प्रभावी छाप नहीं छोड़ता।

अरिजीत सिंह और नीति मोहन की आवाज़ आकर्षक अवश्य हैं मगर फिर भी गाने में किसी पंच लाइन की कमी नज़र आती है, जिससे ये गाना ज़्यादा उठाव ले सकता था।

जहाँ एक तरफ ट्रेलर में ज़फर को गूढ़ दर्शाया गया है, वहीं इस गाने में ज़फर का खुशमिजाज़ी चेहरा सामने आता है। या शायद रूप की मंगनी से उभरने के लिए लिया गया ये मुखौटा भी हो सकता है। पर इस गाने से इस अल्बम में एक अलग गाना जुड़ गया है। इस गाने द्वारा कियारा अडवाणी की फ़िल्म की पहली झलक भी देखने मिली है।

अभिषेक वर्मन द्वारा निर्देशित कलंक १७ अप्रैल को प्रदर्शित हो रही है।

Related topics

Song review