{ Page-Title / Story-Title }

News Hindi

बधाई हो की लेखिका ज्योति कपूर ने की एस डब्ल्यू ए से गुहार, फ़िल्मफ़ेअर नामांकन में अपना नाम फिर से डालने की मांग


हाल ही में हुई बातचीत में ज्योति कपूर ने कहा की ये मांग अवार्ड के लिए नहीं बल्कि उनके उपर किए गए अन्याय के खिलाफ है।

Our Correspondent

लेखिका ज्योति कपूर को इस सप्ताह के शुरुवात में बड़ा झटका लगा जब बधाई हो (२०१८) फ़िल्म के लिए दिए गए फ़िल्मफ़ेअर नामांकन से उनका नाम हटा दिया गया।

ज्योति कपूर ने फेसबुक पर इस विषय पर एक पोस्ट डाली थी, जो की अब हटा दी गयी है। हाल ही में हुई बातचीत में उन्होंने बताया के उन्होंने स्क्रीन रायटर्स असोसिएशन (एस डब्ल्यू ए) से उनका नाम फिर से नामांकन में डालने के लिए मदद मांगी है।

इस मुद्दे की शुरुवात १४ मार्च को हुई जब फ़िल्मफ़ेअर नामांकन की घोषणा की गई। कपूर को अक्षत घिल्डियाल और शांतनु श्रीवास्तव के साथ नामांकन मिला था। पर रिवाइज़्ड लिस्ट से उनके नाम को हटा दिया गया।

अपनी पोस्ट में उन्होंने सवाल किया था के फ़िल्मफ़ेअर ने नामांकन से उनके नाम को क्यों हटा दिया जब की बधाई हो फ़िल्म में उन्हें बतौर लेखिका क्रेडिट दिया गया है। इस पोस्ट को अब हटा दिया गया है।

लेखिका कपूर ने आगे लिखा था, 'लेखक का हर दिन यही काम रह गया है, नया कुआ खोदो और पानी ढूंढो। ये हमारे पेशे के साथ ही आता है। और मैं ये सब करने के लिए तैयार हूँ। साथ ही फ़िल्मफ़ेअर, मेरा नाम फिर से नामांकन में डालिये। वो पुरस्कार कोई मायने रखता हो या नहीं, पर ये मेरा अधिकार है।'

फर्स्टपोस्ट डॉट कॉम से हुई बातचीत में उन्होंने कहा के उन्होंने एस डब्ल्यू ए से इस विषय पर मदद मांगी है। उनके अनुसार अमित शर्मा की बधाई हो (२०१८) की कहानी उनकी हम दो हमारे चार फ़िल्म की कहानी पर आधारित है।

उन्होंने बताया के वह हम दो हमारे चार की स्क्रिप्ट पर काम कर रही थीं जब जंगली पिक्चर्स की निर्माती प्रीति शहानी ने अमित शर्मा से इस विषय में बात की। कपूर के अनुसार शर्मा ने उनसे कहा था के उनके पास इसी विषय पर कहानी है, जिस पर वे भी काम कर रहे हैं।

कपूर ने आगे बताया के शर्मा को हम दो हमारे चार के बारे में जंगली पिक्चर्स के पूर्व डेवलपमेंट हेड अमन गिल द्वारा सूचित किया गया था। उन्होंने ये भी कहा के भले ही कहानी का मूल आधार वही था, मगर स्क्रीनप्ले काफ़ी अलग था।

अंत में ज्योति कपूर को बधाई हो के ट्रेलर और फ़िल्म में लेखक के रूप में क्रेडिट दिया गया।

पर सर्वोत्तम कथा के लिए दिए गए नामांकन से उनका नाम हटाने पर उन्हें मजबूरन एसडब्ल्यूए से इस विषय पर मदद मांगनी पड़ी। ज्योति कपूर इस असोसिएशन की उपाध्यक्ष हैं।

फर्स्टपोस्ट से हुई बातचीत में ज्योति कपूर ने कहा के असोसिएशन ने संबंधित पार्टीज़ को सूचित किया है के उनका नाम नामांकन में फिर से डाला जाये।

स्क्रीन रायटर्स असोसिएशन ने हाल ही में घोषणा की थी के कॉपीराइट और इंटेलेक्च्युअल राइट्स के मुद्दे को लेकर वे लेखकों को कानूनी मदद देने के लिए तैयार हैं।

Related topics

Filmfare