{ Page-Title / Story-Title }

Article Hindi

अभिनेत्री ज़ायरा वसीम ने फ़िल्मों को किया अलविदा, कहा उनके आस्था की बुनियाद हिल गयी थी


दंगल (२०१६) और सीक्रेट सुपरस्टार (२०१७) की अभिनेत्री ज़ायरा वसीम के इस निर्णय ने फैन्स को चौंका दिया है।

Our Correspondent

एक अचंबित करनेवाले निर्णयने फैन्स को चौंका दिया है। आमिर ख़ाँ की दंगल (२०१६) और सीक्रेट सुपरस्टार (२०१७) जैसी फ़िल्मों से लोकप्रियता की शिखर पर पहुंची अभिनेत्री ज़ायरा वसीम ने फ़िल्म इंडस्ट्री को छोड़ने का निर्णय घोषित किया है।

इस निर्णय के पीछे ज़ायरा ने इस्लाम के साथ उनके रिश्ते की वजह बताई है। ज़ायरा ने दंगल फ़िल्म में छोटी गीता फोगाट की भूमिका निभाते हुए अपना फ़िल्मी करिअर शुरू किया था। उसके बाद उन्हें आमिर ख़ाँ की ही सीक्रेट सुपरस्टार (२०१७) फ़िल्म में मुख्य किरदार के लिए चुना गया और उनके अभिनय को काफ़ी सराहा गया।

ज़ायरा ने लम्बे फेसबुक पोस्ट के ज़रिये अपना निर्णय ज़ाहिर किया। उन्होंने कहा के पाच वर्ष पहले उन्होंने जब फ़िल्मों में काम करने का निर्णय लिया तब से उनका जीवन बदल गया। उन्हें दर्शकों से पहचान और प्रेम मिला और फ़िल्म इंडस्ट्री से भी उन्हें काफ़ी मदद मिली। पर किसी प्रकार उन्हें यूँ लगता रहा के भले ही वे इस प्रोफेशन के लिए उचित थीं, पर ये जगह उनके लिए नहीं थी।

"आज मैंने पाच वर्ष पूर्ण किये हैं, तो मैं ये कहना चाहती हूँ के मैं अपनी पहचान याने के मेरे काम से पूरी तरह खुश नहीं हूँ। काफ़ी समय से मुझे ऐसा लग रहा था के मैं कुछ और बनने की कोशिश कर रही हूँ। मैंने जब शुरुवात की थी और मैंने जिस काम के प्रति अपना समय, प्रयास और संवेदना देना शुरू किया, उसे मैं समझने की कोशिश कर रही थी और मैं नयी जीवनशैली से जुड़ रही थी, मुझे ये समझ आ रहा था के मैं इस प्रोफेशन के लिए उचित तो थी, पर ये जगह मेरे लिए नहीं थी," उनकी पोस्ट में लिखा था।

राष्ट्रिय पुरस्कार से सम्मानित इस अभिनेत्री का मुख्य मुद्दा यह था के उनके विश्वास की बुनियाद को उनके प्रोफेशन ने हिला दिया था।

"मैंने अपने ईमान के साथ दखलअंदाज़ी करनेवाले वातावरण में काम करना जारी रखा था, पर मेरे धर्म के साथ मेरे रिश्ते की बुनियाद हिल चुकी थी। मैं इन बातों को नज़रअंदाज़ करती गयी और अपने आप को ये समझाते रही के जो मैं कर रही हूँ वो ठीक है और इससे मुझे कोई फर्क नहीं पड़ रहा, पर मैंने मेरे जीवन की बरकत खो दी। बरकत वो शब्द नहीं जिसका अर्थ सिर्फ़ ख़ुशी, अधिकता या आशीर्वाद से जुड़ा है, इसका एक अर्थ स्थिरता भी है, जो पाने के लिए मुझे काफ़ी प्रयास करना पड़ा," उन्होंने लिखा।

"मैं अपने आप को टालते रही के मैं जो कर रही हूँ वो मुझे भले ही सही नहीं लग रहा, पर मैं इसे जब चाहूँ रोक सकती हूँ और मैंने अपने आप को इस उलझन में रखना जारी रखा, जिसमे कभी भी इस वातावरण में बह जाना संभव था जिससे मेरी शांति, ईमान और अल्लाह के साथ मेरे रिश्ते को क्षति पहुंचना संभव था," उन्होंने कहा।

पिछले वर्ष ज़ायरा ने इंस्टाग्राम पर एक लम्बी पोस्ट लिखी थी के वे चार वर्ष से डिप्रेशन का सामना कर रही हैं पर उससे इन्कार किये जा रही थीं। उससे छह महीने पूर्व ज़ायरा एक सह प्रवासी के साथ लैंगिक शोषण की खबर की वजह से चर्चा में थीं। उस समय उन्हें फ़िल्म इंडस्ट्री के कई लोगों ने समर्थन दिया, पर कई लोगों को यह भी लगता था के वे राइ का पर्वत बना रही हैं और अपने सेलिब्रिटी स्टेटस का गलत इस्तेमाल कर रही हैं।

ज़ायरा ने ३० जून को कहा के इस बारे में क़ुरान से उन्हें सहायता मिली। "क़ुरान की महान सीख में मुझे पूर्णता और शांति मिली। दिल को तभी शांति प्रदान होती है जब उसे उसके रचेयता का ज्ञान प्राप्त होता है, उसकी विशेषता, उसका प्रेम और उसकी आज्ञा प्राप्त होती है। मैं खुद की बुद्धि के बजाय मेरी मदद और मार्गदर्शन के लिए अल्लाह पर निर्भर रहने लगी," उन्होंने कहा।

अपने निर्णय पर विस्तारपूर्वक बताते हुए उन्होंने कहा, "अपनी आत्मा से जूझने का ये सफर काफ़ी थका देनेवाला था। ज़िंदगी जितनी छोटी है उतनी लम्बी भी है, इसलिए किसी के साथ लड़ाई करते रहने में समझदारी नहीं। इसलिए आज मैं इस निर्णय पर पहुंची हूँ और मैं अधिकृत रूप से इस फील्ड के साथ मेरा अलगाव घोषित करती हूँ।"

ज़ायरा ने अपने निर्णय को पुष्टि देने के लिए क़ुरान की कुछ आयतें भी लिखी। गौर करें तो ज़ायरा ने फ़िल्म सीक्रेट सुपरस्टार में गायिका बनने के अपने सपने को पूरा करने के लिए कट्टरपंथी पिता से लड़ने वाली लड़की का किरदार निभाया था।

ज़ायरा वसीम की आगामी फ़िल्म द स्काय इज़ पिंक है, जो एक वास्तविक कहानी पर आधारित है और यह फ़िल्म ११ अक्टूबर को प्रदर्शित हो रही है।

Related topics