{ Page-Title / Story-Title }

News Hindi

विवेक ओबेरॉय ने दर्शाई राजनीती में रूचि, कहा भविष्य में चुनाव लड़ सकते हैं


अभिनेता विवेक ओबेरॉय ने कहा के वे राजनीती में प्रवेश कर सकते हैं और मौका मिलने पर वड़ोदरा चुनाव क्षेत्र से चुनाव भी लड़ सकते हैं।

फोटो - शटरबग्ज़ इमेजेस

Our Correspondent

पीएम नरेंद्र मोदी फ़िल्म के निर्माताओं ने भारतीय जनता पार्टी से किसी भी प्रकार के संबंध को चुनाव आयोग के सामने नकारा है, पर फ़िल्म के मुख्य अभिनेता विवेक ओबेरॉय ने कहा है के वे भविष्य में राजनीती में प्रवेश कर सकते हैं। वड़ोदरा के पारुल विश्वविद्यालय के छात्रों के साथ बातचीत में विवेक ने दिल खोल कर बातें की।

विवेक अपनी आगामी फ़िल्म पीएम नरेंद्र मोदी में विद्यमान भारतीय प्रधानमंत्री की भूमिका निभा रहे हैं। ११ अप्रैल को प्रदर्शित हो रही यह फ़िल्म विवादों के घेरो में आ चुकी थी, जब कॉंग्रेस तथा कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ़ इंडिया (मार्क्सवादी) ने फ़िल्म पर आरोप किया के लोक सभा चुनाव के दरमियाँ इस फ़िल्म द्वारा मतदाताओं को प्रभावित करने का प्रयास किया जा रहा है।

चुनाव आयोग ने इस विषय पर सेंट्रल बोर्ड ऑफ़ फ़िल्म सर्टिफिकेशन (सीबीएफसी) के निर्णय को ग्राह्य धरने का निर्णय दिया। विवेक ओबेरॉय ने अगले वर्ष राजनीती में प्रवेश करने की इच्छा जताई है।

रविवार को वड़ोदरा के पारुल विश्वविद्यालय के छात्रों के साथ चल रहे चर्चा सत्र में विवेक ओबेरॉय ने कहा के अगर उन्हें मौका मिलता है तो वे वड़ोदरा चुनाव क्षेत्र से चुनाव लड़ने के लिए तैयार हैं।

पीटीआई के अनुसार विवेक ने कहा, "अगर मैं राजनीती में प्रवेश करता हूँ तो २०२४ के लोकसभा चुनाव में मैं वड़ोदरा से चुनाव लड़ना चाहूंगा, क्यूंकि जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यहाँ से चुनाव लड़ा था तो उन्हें ढेर सारा प्यार और स्नेह मिला था।"

अभिनेता विवेक ओबेरॉय को ११ अप्रैल को शुरू हो रहे सार्वजनिक चुनाव के लिए भाजप की और से स्टार कैम्पेनर चुना गया है। स्टार प्रचारकों में राजनाथ सिंह, अमित शाह, अरुण जेटली और सुषमा स्वराज के साथ पार्टी द्वारा विवेक ओबेरॉय के नाम को भी शामिल किया गया है।

पीएम नरेंद्र मोदी फ़िल्म के प्रदर्शन के विरोध में एक कॉंग्रेस नेता द्वारा सुप्रीम कोर्ट में दायर किए गए अर्जी पर ८ अप्रैल को सुनवाई की जाएगी। इस अर्जी में कहा गया है के फ़िल्म के प्रदर्शन को चुनावी प्रक्रिया पूर्ण होने तक रोक दिया जाए, क्यूंकि फ़िल्म द्वारा मतदाताओं को चुनाव के दौरान प्रभावित करने का प्रयास किया जा रहा है।

Related topics